Ankita Lokhande Break Silence On Sushant Singh Rajput Says He Could Not Have Been Depressed – सुशांत सिंह राजपूत को लेकर अंकिता लोखंडे ने तोड़ी चुप्पी, बोलीं

7
सुशांत सिंह राजपूत को लेकर अंकिता लोखंडे ने तोड़ी चुप्पी, बोलीं- वो 'डिप्रेस्ड' नहीं हो सकते, वह ऐसे इंसान...

सुशांत सिंह राजपूत (Sushant Singh Rajput) को लेकर अंकिता लोखंडे ने तोड़ी चुप्पी

खास बातें

  • सुशांत सिंह राजपूत को लेकर अंकिता लोखंडे ने तोड़ी चुप्पी
  • एक्ट्रेस ने कहा कि वह ऐसे इंसान नहीं थे जो…
  • अंकिता लोखंडे ने सुशांत सिंह राजपूत को बताया हीरो

नई दिल्‍ली:

सुशांत सिंह राजपूत (Sushant Singh Rajput) के निधन से उनके फैंस और बॉलीवुड इंडस्ट्री को काफी झटका लगा है. सुशांत सिंह राजपूत ने 34 वर्ष की उम्र में दुनिया को अलविदा कह दिया. बीते 14 जून को सुशांत सिंह राजपूत अपने घर में मृत पाए गए थे. वहीं, हाल ही में सुशांत सिंह राजपूत के निधन को लेकर अंकिता लोखंडे (Ankita Lokhande) ने चुप्पी तोड़ी है, साथ ही कहा है कि सुशांत ‘डिप्रेस्ड’ नहीं हो सकते. अंकिता लोखंडे ने रिपब्लिक टीवी को दिए इंटरव्यू में कहा कि सुशांत ऐसे इंसान नहीं थे तो आत्महत्या करेंगे. बता दें कि अंकिता लोखंडे और सुशांत सिंह राजपूत करीब 6 साल तक रिलेशनशिप में थे. 

यह भी पढ़ें

अंकिता लोखंडे (Ankita Lokhande) ने सुशांत सिंह राजपूत (Sushant Singh Rajput) के बारे में बात करते हुए इंटरव्यू में कहा, “सुशांत ऐसे इंसान नहीं थे जो आत्महत्या करेंगे. जब हम साथ थे तो हमने कठिन परिस्थितियां भी देखी हैं. वह एक खुश मिजाज इंसान थे. मैं उन्हें जितना जानती हूं, वह एक डिप्रेस्ड इंसान नहीं थे. मैं जिंदगी में कभी सुशांत जैसा इंसान नहीं देखा, जो अपने सपने खुद लिखता था. उनके पास डायरी थी, उनके 5 साल के प्लान थे, जिसे वह पूरा करना चाहते थे. 5 साल बाद उन्होंने सपनों को पूरा भी किया. जब डिप्रेशन जैसा शब्द उनके लिए प्रयोग होता है तो यह दिल तोड़ने वाला होता है. वह उदास या गुस्सा हो सकते थे, लेकिन डिप्रेशन काफी बड़ा शब्द है.”

अंकिता (Ankita Lokhande) ने सुशांत (Sushant Singh Rajput) के बारे में बात करते हुए आगे कहा, “जिस सुशांत को मैं जानती हूं, वह एक छोटे शहर से आए थे. उन्होंने अपने दम पर खुद को यहां स्थापित किया था. उन्होंने मुझे एक्टिंग के साथ-साथ कई चीजें सिखाईं. किसी को भी पता है कि सुशांत कौन और क्या थे. हर कोई लिख रहा है कि वह कितने डिप्रेस्ड थे. यह सब पढ़कर दुख होता है.” अंकिता ने आगे कहा, “वह छोटी चीजों में खुशी ढूंढ लेते थे. मैं खेती करना चाहते थे. उन्होंने मुझसे कहा था कि अगर कुछ नहीं हुआ तो मैं अपनी शॉर्ट फिल्म बना लुंगा. मुझे नहीं मालूम कि स्थिति क्या थी, लेकिन मैं यह दोहराउंगी कि वह डिप्रेस नहीं थे. मैं उन्हें लोगों के दिमाग में एक डिप्रेस व्यक्ति बने नहीं रहने दे सकती. वह हीरो थे और एक प्रेरणा थे.”

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here