लॉकडाउन 5.0 की ओर देश, सरकार आज जारी कर सकती है गाइडलाइंस – Corona virus lockdown 5 modi government new guidelines can be issued today

कोरोना वायरस से निपटने के लिए देश लॉकडाउन के दौर से गुजर रहा है. लॉकडाउन 4.0 की अवधि 31 मई को खत्म हो रही है. ऐसे में इस बात की चर्चा है कि सरकार एक बार फिर लॉकडाउन को बढ़ा सकती है. सरकार के सूत्रों के मुताबिक, गृह मंत्रालय आज (शनिवार) लॉकडाउन 5.0 को लेकर गाइडलाइंस जारी कर सकती है.

बता दें कि लॉकडाउन 4.0 की अवधि रविवार को खत्म हो रही है. ऐसे में अब हर किसी के मन में यही सवाल है कि 1 जून से क्या होगा. क्या लॉकडाउन 5.0 आएगा या फिर पूरी तरह से छूट मिल जाएगी. लेकिन सरकार जिस तरह आज गाइडलाइंस जारी करने वाली है उससे तो साफ हो गया है कि लॉकडाउन 5.0 होगा. अब देखने वाली होगी कि सरकार लोगों को कितनी छूट देती है.

गुरुवार को गृह मंत्री अमित शाह ने सभी राज्यों के मुख्यमंत्रियों से बात भी की थी. लॉकडाउन 4 के हालात की समीक्षा हुई. गृह मंत्री ने राज्यों से लॉकडाउन 5 को लेकर उनकी राय जानी, आगे के प्लान पर बातचीत हुई. कई राज्यों ने अभी से ही अपने राज्य में लॉकडाउन या फिर सख्ती को आगे तक के लिए बढ़ा दिया है.

मुख्यमंत्रियों से बातचीत के बाद गृह मंत्री की प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात हुई थी. इस दौरान अमित शाह ने पीएम मोदी को मुख्यमंत्रियों की राय से अवगत कराया. इसके अलावा कैबिनेट सेक्रेटरी ने भी गुरुवार को राज्यों के सचिवों और सबसे प्रभावित जिलों के अधिकारियों के साथ लॉकडाउन और कोरोना के संकट पर मंथन किया था.

बढ़ाया जा सकता है छूट का दायरा

लॉकडाउन के पांचवें चरण में कोरोना प्रभावित 11 शहरों को छोड़कर बाकी देश में छूट का दायरा बढ़ाया जा सकता है. सूत्रों का कहना है कि लॉकडाउन का पांचवा चरण 11 शहरों पर केंद्रित होगा, जिसमें दिल्ली, मुंबई, बेंगलुरु, पुणे, ठाणे, इंदौर, चेन्नई, अहमदाबाद, जयपुर, सूरत और कोलकाता शामिल हैं. इन शहरों में 70 फीसदी से अधिक कोरोना केस हैं. केवल 5 शहरों (अहमदाबाद, दिल्ली, पुणे, कोलकाता, मुंबई) में तो आंकड़ा 60 फीसदी के पास है.

लॉकडाउन 5.0 में केंद्र की ओर से धार्मिक स्थलों को खोलने की छूट दी जा सकती है, लेकिन नियम और शर्तें लागू रहेंगी. धार्मिक स्थल पर कोई भी मेला या महोत्सव मनाने की छूट नहीं होगी. साथ ही अधिक संख्या में लोग इकट्ठा नहीं होंगे. मास्क पहनना और सोशल डिस्टेंसिंग अनिवार्य होगा.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें

  • Aajtak Android App
  • Aajtak Android IOS



Source link

Related posts

Leave a Comment