मोदी 2.0 के एक साल के कार्यकाल पर बोली कांग्रेस- बेबस लोग बेरहम सरकार – Congress says pm modi fail to serve nation in his second tenure migrant labourers covid warriors farmers industry

  • पिछले छह सालों के कार्यकाल में देश अभूतपूर्व बैंक फ्रॉड का बना गवाह
  • विशेष पैकेज के लिए GDP का 10 प्रतिशत खर्च करने को कहा गया था मिला 0.8%

मोदी 2.0 का आज एक साल पूरा हो गया है. इस मौके पर प्रधानमंत्री मोदी, गृह मंत्री अमित शाह और बीजेपी राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा केंद्र सरकार की उपलब्धियों के बारे में बता रहे हैं. वहीं विपक्षी पार्टियां सरकार को निशाने पर ले रही हैं. कांग्रेस ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस कर पीएम मोदी के दूसरे कार्यकाल को पूरी तरह से नाकाम बताया है. इतना ही नहीं उन्होंने ‘बेबस लोग, बेरहम सरकार’ नाम से एक स्लोगन भी दिया है. कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने एक साल पूरे होने पर केंद्र सरकार की नीतियों को घेरे में लिया है.

पार्टी ने प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान स्लाइड दिखाते हुए मोदी सरकार की नाकामियों को गिनाया. स्लाइड में प्रवासी मजदूरों, कोविड वॉरियर्स, किसान और इंडस्ट्री से जुड़ी समस्या को लेकर केंद्र सरकार को निशाने पर लिया गया. इसके अलावा महिलाओं की सुरक्षा, राष्ट्रीय सुरक्षा और फॉरेन पॉलिसी को लेकर भी केंद्र सरकार पर कई आरोप लगाए गए हैं.

कांग्रेस ने कहा कि वर्तमान सरकार ने वादे तो बहुत सारे किए थे लेकिन हुआ बहुत कम है. मोदी ने दूसरा कार्यकाल शुरू करने से पहले वादा किया था कि वह हर साल दो करोड़ नौकरियों का सृजन करेंगे. लेकिन इस कार्यकाल में देश ने 45 साल की सबसे बड़ी बेरोजगारी देख ली. जीडीपी गिरता जा रहा है. फरवरी 2021 में जीडीपी निगेटिव में रहने का अनुमान जताया गया है. पिछले छह सालों के कार्यकाल में देश अभूतपूर्व बैंक फ्रॉड की घटनाओं का गवाह बना है. इस फेहरिस्त में नीरव मोदी, मेहुल चोकसी और ना जाने कितने नाम हैं.

विशेष आर्थिक पैकेज पर निशाना साधते हुए कांग्रेस ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी ने प्रोत्साहन पैकेज के नाम पर जीडीपी का 10 प्रतिशत खर्च करने की बात कही थी. लेकिन असल में यह मात्र 0.8 प्रतिशत ही था. देश गरीब होता जा रहा है जबकि बीजेपी अमीर होती जा रही है. मोदी सरकार के कार्यकाल में बीजेपी 248 प्रतिशत ज्यादा अमीर हो गई है. चुनाव आयोग, सीवीसी, सीएजी, लोकपाल, सूचना आयोग जैसी संस्थाओं को कमजोर कर दिया गया है.

कोरोना पर फुल कवरेज के लि‍ए यहां क्लिक करें

अगर कोई नेता या थिंकर्स सरकार के खिलाफ आवाज उठाता है तो उनके खिलाफ केस चला दिया जाता है.

वहीं बीजेपी राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा पर निशाना साधते हुए कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि उन्हें अपने गृह राज्य हिमाचल प्रदेश के मेडिकल स्कैम पर भी बात करनी चाहिए थी. वहां के बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष ने इस्तीफा दे दिया लेकिन मुख्यमंत्री जो कि स्वास्थ्य मंत्रालय भी देख रहे हैं अभी तक पद पर बने हैं. नड्डा को देश से गुजरात के वेंटिलेटर और रैपिड टेस्टिंग स्कैम पर भी बात करनी चाहिए थी.

कांग्रेस प्रवक्ता ने कहा कि नड्डा देश को बताएं कि कोरोना वायरस को लेकर राहुल गांधी द्वारा 12 फरवरी को आगाह किए जाने के बावजूद सरकार ने किस तरह अपनी लापरवाही दिखाई. गृह मंत्री अमित शाह ने तबलीगी जमात के लोगों को कोरोना जैसे हालात के बीच समारोह आयोजित करने की अनुमति कैसे दी?

कोरोना कमांडोज़ का हौसला बढ़ाएं और उन्हें शुक्रिया कहें…

उन्होंने आगे कहा कि देश जब कोरोना की जद में फंस रहा था तो पीएम मोदी मध्य प्रदेश में कमलनाथ सरकार को गिराने में व्यस्त थे. देश में कोरोना का पहला केस जनवरी में आया था लेकिन टेस्टिंग को लेकर रणनीति की घोषणा मार्च में की गई.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें

  • Aajtak Android App
  • Aajtak Android IOS



Source link

Related posts

Leave a Comment