11 साल के निचले स्‍तर पर देश की GDP, पढ़ें शुक्रवार शाम की 5 बड़ी खबरें – News wrap friday evening top five news 29 may 2020 gdp growth falls ajit jogi dies

कोरोना वायरस के प्रकोप को देखते हुए वित्त वर्ष 2020-21 का साल और बुरा होने की आशंका है. बीते दिनों भारतीय रिजर्व बैंक ने तो यहां तक कह दिया कि वित्त वर्ष 2020-21 के दौरान देश के जीडीपी में ग्रोथ निगेटिव रहेगी यानी इसमें गिरावट आएगी. वहीं, शुक्रवार को छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री अजीत जोगी और प्रसिद्ध ज्योतिषी बेजन दारुवाला ने दुनिया को अलविदा कह दिया. पढ़िए शुक्रवार शाम की पांच बड़ी खबरें.

11 साल के निचले स्‍तर पर देश की GDP, इकोनॉमी में 2009 की मंदी जैसा माहौल

साल 2009 की बात है, कांग्रेस की अगुवाई वाली यूपीए सरकार दोबारा सत्ता में आई थी. इसी साल वित्त वर्ष 2008-09 के जीडीपी आंकड़े जारी किए गए. इन आंकड़ों से पता चला कि वित्त वर्ष 2008-09 (अप्रैल से मार्च ) में देश की जीडीपी यानी विकास दर 3.09 फीसदी रही. जीडीपी के इन आंकड़ों पर वैश्‍विक मंदी का साया था. दरअसल, साल 2008 में दुनियाभर में मंदी छाई हुई थी. इस मंदी ने भारतीय इकोनॉमी को भी प्रभावित किया. इसका असर जीडीपी आंकड़ों पर देखने को मिला.आज करीब 11 साल बाद देश की जीडीपी एक बार फिर उसी स्‍तर के करीब जा पहुंची है.

नहीं रहे छत्तीसगढ़ के पहले मुख्यमंत्री अजीत जोगी, 74 साल की उम्र में निधन

छत्तीसगढ़ के पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी का शुक्रवार को निधन हो गया. अजीत जोगी को दिल का दौरा पड़ने के बाद अस्पताल में भर्ती कराया गया था. वह 20 दिन से रायपुर के अस्पताल में भर्ती थे. उनके निधन की जानकारी उनके बेटे अमित जोगी ने ट्वीट कर दी. अमित जोगी ने लिखा कि 20 वर्षीय युवा छत्तीसगढ़ राज्य के सिर से आज उसके पिता का साया उठ गया. केवल मैंने ही नहीं बल्कि छत्तीसगढ़ ने नेता नहीं,अपना पिता खोया है. अजीत जोगी ढाई करोड़ लोगों के अपने परिवार को छोड़कर, ईश्वर के पास चले गए. गांव-गरीब का सहारा, छत्तीसगढ़ का दुलारा,हमसे बहुत दूर चला गया.

बंगाल में 1 जून से खुलेंगे धार्मिक स्थल, 8 से सभी कर्मचारी काम पर लौटेंगे: ममता

कोरोना संकट को लेकर शुक्रवार को पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि राज्य में धार्मिक स्थल 1 जून से खोल दिए जाएंगे. लेकिन इसके लिए कुछ जरूरी बातें भी होंगी जिसका पालन करना होगा. ममता ने घोषणा की है कि एक जून से सभी धार्मिक स्थल सुबह 10 बजे से खोले जाएंगे. ममता बनर्जी ने प्रेस कॉफ्रेंस में कहा कि किसी को भी धार्मिक स्थलों पर इकट्ठा होने की इजाजत नहीं दी जाएगी. एक समय में केवल 10 व्यक्तियों को ही जाने की अनुमति होगी. इसके साथ ही उन्होंने कहा कि धार्मिक स्थलों पर सैनिटाइजेशन की पूरी व्यवस्था हर हाल में होनी चाहिए. मुझे उम्मीद है कि भारत सरकार भी इसे स्वीकार करेगी.

मशहूर ज्योतिषाचार्य बेजन दारुवाला का निधन, कोरोना के लक्षण के बाद चल रहा था इलाज

प्रसिद्ध ज्योतिषी बेजन दारुवाला का 90 वर्ष की आयु में निधन हो गया. वह गुजरात के गांधीनगर स्थित एक निजी अस्पताल में भर्ती थे. कोरोना वायरस के प्राथमिक लक्षण के बाद उनका इलाज चल रहा था. हालांकि, उनकी कोरोना की रिपोर्ट निगेटिव आई थी. गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने उनके निधन पर दुख जताया है. विजय रूपाणी ने ट्वीट किया कि प्रसिद्ध ज्योतिषी बेजन दारुवाला के निधन से दुखी हूं. मैं दिवंगत आत्मा के लिए प्रार्थना करता हूं. मेरी संवेदना. बेजन दारुवाला का जन्म 11 जुलाई 1931 को मुंबई में हुआ था. अपनी सटीक भविष्यवाणी का नमूना कई बार पेश करने वाले बेजन दारुवाला पारसी परिवार से ताल्लुक रखते थे.

ममता ने रेल मंत्रालय से पूछा- श्रमिक एक्सप्रेस को कोरोना एक्सप्रेस में बदलना है क्या?

कोरोना संकट को लेकर शुक्रवार को की गई अपनी प्रेस कॉन्फ्रेंस में ममता बनर्जी ने प्रवासी मजदूरों का मुद्दा भी उठाया. ममता बनर्जी ने कहा कि मुझे खुशी है कि प्रवासी मजदूर वापस आ रहे हैं. लेकिन मैं पूछना चाहती हूं कि बिना सोशल डिस्टेंसिंग के उन्हें ट्रेनों में क्यों पैक किया जा रहा है? वे सभी हॉटस्पॉट… महाराष्ट्र, गुजरात, तमिलनाडु, दिल्ली से आ रहे हैं. इसलिए जब ट्रेनें इन्हीं स्थानों से आ रही हैं तो रेलवे अतिरिक्त ट्रेन क्यों नहीं चला सकती है ताकि उनमें कुछ सोशल डिस्टेंसिंग बनी रहे. अपना हमला जारी रखते हुए ममता बनर्जी ने कहा कि ट्रेन में न तो खाना है न ही पानी है. इन प्रवासियों को गाड़ियों के अंदर पैक कर दिया जा रहा है. कभी-कभी क्षमता से दोगुना लोग बैठाए जा रहे हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें

  • Aajtak Android App
  • Aajtak Android IOS



Source link

Related posts

Leave a Comment