स्पाइस जेट को ड्रोन ट्रायल करने की मिली इजाजत, दवाइयों की होगी सप्लाई! – Spicejet gets permission to conduct drone trials dgca

  • ड्रोन से हो सकेगी दवाइयों की सप्लाई
  • DGCA ने स्पाइसजेट को ड्रोन ट्रायल की दी मंजूरी

देश की बड़ी विमानन कंपनियों में से एक स्पाइसजेट को ड्रोन ट्रायल कराने की इजाजत नागर विमानन महानिदेशालय (DGCA) की ओर से मिल गई है. स्पाइसजेट की सहयोगी शाखा स्पाइसएक्सप्रेस ड्रोन का इस्तेमाल मेडिकल, फार्मा और अन्य ई कॉमर्स संबंधित जरूरी सामानों की जल्द डिलिवरी के लिए करना चाहती है.

स्पाइस एक्सप्रेस की अगुवाई वाली कंसोर्टियम ने बियांड विजुअल लाइन ऑफ साइट(BVLOS) की बुनियाद परीक्षण की सहमति डीजीसीए से मांगी थी, जिसे अब मंजूरी मिल गई है. स्पाइस एक्सप्रेस अगले कुछ दिनों तक एक सीमा के भीतर ट्रायल करेगा.

स्पाइसजेट के चेयरमैन और मैनेजिंग डायरेक्टर ने कहा, ‘स्पाइसजेट के लिए टेक्नोलॉजी और खोज हमेशा प्राथमिक रहे. हम लोगों को बेहद अनुभव देना चाहते हैं. ड्रोन की टेस्टिंग कार्गो डिलिवरी सिस्टम की ओर बड़ा कदम है. इसके जरिए एयर ट्रांसपोर्टेशन को बढ़ावा मिल सकता है और जरूरी, गैरजरूरी सुविधाओं की डिलिवरी भी हो सकती है. सुदूर भारत के ग्रामीण इलाकों में भी इसके जरिए मदद पहुंचेगी.

कोरोना पर फुल कवरेज के लि‍ए यहां क्ल‍िक करें

स्पाइसजेट के साथ थ्रोटल एयरोस्पेस काम कर रही है. यह एक ड्रोन निर्माता कंपनी है. इसके साथ ही एक सॉफ्टवेयर सॉल्यूशन फर्म इनवोलिया भी शामिल है. यह एयर ट्रैफिक अवेयरनेस की दिशा में काम करता है.

लॉकडाउन के दौरान स्पाइसजेट ने 12,298 टन का माल 1728 फ्लाइटों के जरिए सप्लाई किया है. इन उड़ानों के जरिए दवाइयां, सर्जिकल सप्लाई, सैनिटाइजर्स, फेस मास्क, कोरोना रैपिड टेस्ट किट्स और मेडिकल उपकरणों को भारत के अलग-अलग हिस्सों में पहुंचाया गया था.

कोरोना कमांडोज़ का हौसला बढ़ाएं और उन्हें शुक्रिया कहें…

स्पाइसजेट एयरलाइंस ने व्यापक स्तर पर अपनी सेवाओं का विस्तार किया है. स्पाइसजेट ने जकार्ता, काठमांडो, सूडान, दक्षिण कोरिया, बगदाद, कंबोडिया, अबूधाबी, कुवैत, बैंकाक, यूक्रेन और इंडोनेशिया जैसी जगहों पर अपनी सेवाओं को विस्तार दिया है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें

  • Aajtak Android App
  • Aajtak Android IOS



Source link

Related posts

Leave a Comment