इस वैज्ञानिक ने 5 साल पहले की थी कोरोना की भविष्यवाणी, अब दी ये चेतावनी – china wuhan lab scientist doctor xi zhengli corona covid 19 prophecy crime

  • चीनी वैज्ञानिक का दावा निकला सही
  • अभी और कहर बरपा सकता है कोरोना वायरस

कोरोना वायरस के जीन सीक्वेंस को दुनिया में सबसे पहले खोजने वाली चीन की वैज्ञानिक डाक्टर शी झेंगली ने कोविड 19 के दुनियाभर में फैलने की भविष्‍यवाणी कई साल पहले कर दी थी. एक शो के दौरान उन्होंने कहा था कि कुछ साल बाद चमगादड़ों की वजह से फैलने वाला एक वायरस वैश्विक महामारी का रूप ले लेगा. हालांकि तब वुहान की इस बैट वुमेन की चेतावनी को दुनिया ने हलके में लिया था. लेकिन अंजाम आज पूरी दुनिया भुगत रही है.

उस दौर में जब चीनी वैज्ञानिक शी झेंगली लगातार चमगादड़, ऊद बिलाव और दूसरे जंगली जानवरों का कारोबार की पुरज़ोर मुखाल्फत और आने वाले खतरे की भविष्यवाणी कर रहीं थी. तब दुनिया अगर उनकी इस चेतावनी को समझ लेती और ज़रूरी कदम उठा लेती तो आज ये दिन ना देखना पड़ता. दरअसल, सार्स वायरस की जांच के दौरान ही डॉ शी झेंगली को अंदाज़ा हो गया था कि जानवरों से इंसानों में दाखिल होने वाला ये वायरस आने वाले वक्त में म्यूटेट होकर यानी नई शक्ल लेकर लौट सकता है. उन्हें डर था कि ये बहुत भयानक त्रासदी की वजह बनेगा. उन्होंने अपना ये डर और अंदेशा 5 साल पहले ज़ाहिर भी किया था.

कोरोना पर फुल कवरेज के लि‍ए यहां क्लिक करें

चीनी वैज्ञानिक डॉ. शी झेंगली के अनुसार सार्स वायरस के प्रकोप ने सांस की गंभीर बीमारियों के एक से दूसरी प्रजातियों में फैलने के युग की शुरुआत कर दी है. जिसका आने वाले वक्त में पूरी दुनिया में तेज़ी से प्रसार होगा और बहुत बड़े पैमाने पर वैश्विक अर्थव्‍यवस्‍था पर इसका बुरा असर पड़ेगा. SARS-CoV को रोकने के लिए जनस्वास्थ्य उपाय पर्याप्‍त और सक्षम थे. लेकिन इस पर किए गए अध्यनों से पता चला है कि चीन के चमगादड़ों की बड़ी आबादी में सार्स जैसा ही दूसरा वायरस तेजी से फैल रहा है. जो भविष्य में भयंकर खतरे पैदा कर सकता है.

डॉ. शी झेंगली ने इसी दौरान चमगादड़ों से फैले वायरस के इतिहास पर एक टेड टॉक में भी हिस्सा लिया था. जिसका वीडियो आप देख सकते हैं. इस दौरान उन्‍होंने आस्ट्रेलिया में फैले हेंड्रा के बारे में भी बताया था. हेंड्रा प्रकोप के दौरान वो आस्ट्रेलिया की सरकारी एजेंसी कॉमनवेल्‍थ साइंटिफिक एंड इंडस्ट्रीय रिसर्च ऑर्गेनाइजेशन यानी CSIRO के लिए काम करती थीं. इस शो में प्रेजेंटेशन के दौरान भी उन्होंने चेतावनी दी थी कि चमगादड़ों की गुफाओं में सार्स जैसे कई वायरस मिले हैं. साथ ही कहा था कि चमगादड़ों की आबादी वाले इलाकों के नजदीक पिग फार्म बनाने की लोगों को भारी कीमत चुकानी होगी.

डॉ. शी झेंगली ने तब कहा था कि अब सार्स वापस नहीं लौटेगा. लेकिन हमारे इकोसिस्मट में अभी भी कई और वायरस हैं. मुमकिन है कि सार्स की शक्ल में कोई नया वायरस सामने आए. अगर हम इसके प्रति जागरुक नहीं रहे. तो या तो सीधे तौर पर या जानवरों के ज़रिए हम इन वायरस का शिकार बन सकते हैं.

अब देखिए 5 साल पहले की गई डॉ. शी झेंगली की भविष्यवाणी सच साबित हुई. अब कोरोना की शक्ल में करीब-करीब सार्स जैसा वायरस हमारे सामने आ चुका है. अलग अलग थ्योरी के मुताबिक मुमकिन है कि ये वायरस चीनी लोगों में जंगली जानवरों को खाने की आदत की वजह से आया हो. इन जंगली जानवरों को खाने के चलन को लेकर डॉ. शी झेंगली के अलावा दुनियाभर के कई और वैज्ञानिक काफी पहले से चेताते रहे हैं. लेकिन ना तो तब चीनी सरकार और ना ही चीनी लोगों ने इस पर कान धरा और ना ही सतर्कता बरती. ज़ाहिर है वैज्ञानिक जंगली जानवरों से जिस महामारी का अंदेशा जता रहे थे. वो अब डरावनी हकीकत के रूप में सामने है. हालांकि अभी भी ये साबित होना बाकी है कि ये वायरस इंसानों में जानवर से फैला या फिर वुहान की लैब में लीक होने से.

कोरोना कमांडोज़ का हौसला बढ़ाएं और उन्हें शुक्रिया कहें…

डॉ शी झेंगली पिछले कई सालों से ऐसे वायरसों पर रिसर्च कर रही हैं और चमगादड़ से फैलने वाले संक्रमण की तो उन्हें एक्सपर्ट माना जाता है. प्रोफेसर शी और उनकी टीम ने मिलकर सैकड़ों वायरसों का बायो-स्ट्रक्‍चर तैयार कर रखा. जिनको पब्लिश भी किया गया है. जिसकी वजह से बाद में डॉ शी झेंगली के इस शोध के आधार पर चीन की वुहान लैब में कोरोना वायरस बनने की प्रक्रिया भी शुरू हो सकी.

आपको बता दें कि वुहान इंस्ट्टटीयूट ऑफ वायरोलॉजी की ये लैब पी4 लैब है. जहां उन घातक वायरसों पर रिसर्च होती है और उनकी वैक्सीन बनाई जाती है, जिनसे इंसान से इंसान में संक्रमण फैलने का सबसे ज़्यादा खतरा रहता है. इसके लिए अमेरिका, फ्रांस जैसे दुनिया के कई देश इस लैब को रीसर्च के लिए फंड भी करते हैं. वुहान इंस्टिट्यूट ऑफ वायरोलॉजी के पी4 लैब को फ्रांस के बायो-इंडस्ट्रियल फर्म इंस्टिट्यूट मेरियुक्स और चीनी अकैडमी ऑफ साइंस ने मिलकर बनाया है. ये दुनिया के उन चंद लैब में से है जिन्हें क्लास 4 पैथोजेन्स यानी पी4 स्तर के वायरस के टेस्ट की इजाज़त है.

3,000 स्कावयर मीटर के एरिया में फैले इस लैब को 4.2 करोड़ डॉलर की लागत से 2015 में पूरा किया गया था. हालांकि 2018 में आधिकारिक तौर पर इसमें काम शुरू किया गया. इस संस्थान में पी3 लैब भी मौजूद है जो 2012 से चल रहा है. ये एशिया का सबसे बड़ा वायरस बैंक है. इस इंस्टिट्यूट में चाइना सेंटर फॉर वायरस कल्चर कलेक्शन मौजूद हैं. यहां 1500 से ज्यादा वायरस स्ट्रेन हैं. और इन्हें जमा करने में डॉ शी झेंगली की ना सिर्फ बड़ी भूमिका है. बल्कि वो इस लैब की डिप्टी डायरेक्टर भी हैं. इन्हीं वायरस स्ट्रेन को लेकर आरोप है कि वॉयरोलॉजिस्ट डॉ शी के पास जो वायरस के सैंपल हैं. उनमें से एक वायरस सैंपल ऐसा है. जिसका कोविड-19 के साथ जेनेटिक मैच 96 फीसदी से ज्यादा है. मुमकिन है कि वो कोरोना वायरस का सैंपल ही हो. हालांकि डॉ शी इन तमाम आरोपों से इन्कार करती हैं.

डॉ शी झेंगली ने खुद मार्च 2019 में इस बात की चेतावनी दी थी कि अगर भविष्य में चमगादड़ से फैलने वाले सार्स या मर्स जैसा कोई वायरस आता है. तो उसे रोका नहीं जा सकेगा. बावजूद इसके वुहान की लैब में वायरसों से छेड़छाड़ की जाती रही.. और अब नतीजा आपके सामने है.. और अब तो कई ऐसी रिपोर्ट सामने आ रही हैं. जिसमें कहा जा रहा है कि वुहान लैब में अभी भी सार्स जैसे कई कोरोना वायरस को बनाने की प्रक्रिया चल रही है.. इतना ही नहीं इन वायरसों को बनाने के बाद उसे अलग अलग टेस्टिंग के ज़रिए और भी खतरनाक बनाने की प्रक्रिया भी यहां चलती है..

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें

  • Aajtak Android App
  • Aajtak Android IOS



Source link

Related posts

Leave a Comment