अमेरिका में पढ़ रहे हजारों चीनी छात्रों को बाहर निकालने की तैयारी – Chinese students may be next hit by us china tensions


  • चीनी छात्रों का वीजा रद्द करने पर अमेरिका कर रहा विचार
  • पीपुल्स लिबरेशन आर्मी से जुड़े यूनिवर्सिटी के छात्रों पर पहले एक्शन

पिछले कुछ समय से चीन के साथ चल रहे व्यापार युद्ध और फिर कोरोना वायरस के मामले में कथित रूप से जानकारी छिपाने को लेकर अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप काफी नाराज हैं. नई खबर यह है कि अमेरिका, वहां पढ़ रहे हजारों चीनी छात्रों को निष्कासित कर सकता है. बताया गया है कि अमेरिकी यूनिवर्सिटी में पढ़ाई करने वाले हजारों ग्रेजुएट चीनी छात्र को ट्रंप प्रशासन निष्कासित कर सकता है. इससे पहले गुरुवार को अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पियो ने हांगकांग को मिलने वाले ‘वारंट स्पेशल ट्रीटमेंट’ को हटाने की बात कही थी.

चार अमेरिकी अधिकारियों ने इस बात की पुष्टि करते हुए कहा है कि ट्रंप फिलहाल चीनी छात्रों के वीजा को रद्द करने के एक महीने पुराने प्रस्ताव पर विचार कर रहे हैं. इसमें वो छात्र हैं जो पीपुल्स लिबरेशन आर्मी के मान्यता प्राप्त कुछ यूनिवर्सिटी के साथ करार वाले यूनिवर्सिटी में पढ़ाई कर रहे हैं. यानी चीन के साथ करार वाले अमेरिकी विश्वविद्यालयों में पढ़ रहे छात्रों को अमेरिका से निकालने की तैयारी चल रही है.

ट्रंप, कोविड-19 को लेकर चीन के रहस्यमय अंदाज, इस बीमारी से जुड़े तथ्यों में पारदर्शिता की कमी और शुरुआती दौर में अमेरिका के साथ असहयोग के रवैये को लेकर काफी नाराज हैं.

पिछले हफ्ते व्हाइट हाउस में पत्रकारों से बात करते हुए ट्रंप ने कहा, “यदि वे जान-बूझकर जिम्मेदार हैं तो, इसके परिणाम भुगतने को तैयार रहें, आपको पता है, आप जिंदगियों की बात कर रहे हैं, जैसा कि 1917 से किसी ने नहीं देखा है.”

ट्रंप ने कहा कि जबसे कोविड 19 का संक्रमण पूरी दुनिया में फैला है उससे पहले तक उनके चीन से बहुत अच्छा संबंध थे. इससे पहले राष्ट्रपति ट्रंप ने कहा था कि उन्हें चीन में कोरोना से होने वाली मौत के आंकड़े पर यकीन नहीं है और चीन में अमेरिका से भी ज्यादा मौतें हुई है. ट्रंप ने ये बयान तब दिया था जब चीन ने कोरोना वायरस के केंद्र रहे वुहान में मौतों की संख्या में अचानक से 50 फीसदी का इजाफा कर दिया था.

क्या कहा ट्रंप ने?

चीन के साथ व्यापार समझौते के वक्त को याद करते हुए ट्रंप ने कहा कि जब हमलोग समझौते कर रहे थे तो उस वक्त रिश्ते बहुत अच्छे थे, लेकिन अचानक से आप इसके बारे में सुनते हैं, इसलिए ये बड़ा अंतर है.

राष्ट्रपति ट्रंप बोले- चीन के साथ सीमा विवाद पर अच्छे मूड में नहीं हैं PM मोदी

ट्रंप ने कहा, “आपको पता है, सवाल पूछा गया था कि क्या आप चीन पर गुस्सा होंगे, देखिए इसका जवाब एक बड़ा सा हां हो सकता है, लेकिन ये निर्भर करता है.” राष्ट्रपति ट्रंप ने कहा कि एक गलती की वजह से चीजें नियंत्रण से बाहर हो जाए और कुछ जानबूझकर किया जाए तो इसमें अंतर है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें

  • Aajtak Android App
  • Aajtak Android IOS





Source link

Related posts

Leave a Comment