दिल्ली: लॉकडाउन की वजह से नहीं आ पाई हरियाणा से मिट्टी, मुसीबत में फंसे कुम्हार – Delhi hot weather coronavirus lockdown potter crisis clay pots update

  • दिल्ली में भीषण गर्मी से बेहाल लोग
  • हरियाणा से नहीं मिल पा रही है मिट्टी

दिल्ली में 45 डिग्री से ऊपर बढ़ रहे पारे ने लोगों का जीना मुहाल कर दिया है. महानगर में एक तबका चिलचिलाती गर्मी में सिर्फ घड़े के पानी पर ही निर्भर करता है. लॉकडाउन के चलते मिट्टी के बने घड़े पर्याप्त संख्या में नहीं बन पा रहे हैं, जिससे लोगों को बाजारों से खाली हाथ लौटना पड़ रहा है.

जहां कुछ घड़े हैं भी वहां लॉकडाउन के चलते कारोबार प्रभावित है. ऐसे में भीषण गर्मी में लोग गर्म पानी पीने को मजबूर हैं. दिल्ली के कई इलाकों में ये समस्या इसलिए भी है क्योंकि मिट्टी के घड़े बनाने के लिए मिट्टी दिल्ली के हरियाणा से आती है. लगातार चल रहे लॉकडाउन के चलते मिट्टी की पर्याप्त सप्लाई नहीं हो पा रही है.

दिल्ली में मिट्टी के घड़े बनाने के लिए मशहूर प्रजापति कालोनी के कुम्हार मिट्टी के बर्तन बनाने की कला में माहिर हैं. यहां करीब 11 कलाकार राष्ट्रपति से भी सम्मानित हो चुके हैं. यहां पर मिट्टी के सामान और बर्तन खरीदने के लिए विदेशी भी आते हैं.

मोदी सरकार 2.0: आर्थिक भ्रम, लगातार जारी आर्थिक संकट और अब आत्मनिर्भरता की चाह

कुम्हारों के सामने रोजगार का संकट

राष्ट्रपति अवार्ड से सम्मानित प्रजापति कॉलोनी के प्रधान हरिकिशन ने बताया कि हरियाणा से मिट्टी न आ पाने की वजह है कॉलोनी के कलाकार मायूस हैं. सबके सामने रोजी-रोटी का संकट है. गर्मी की वजह से बेहद कम ही ग्राहक आते हैं.

pot3_052820105514.jpgदुकानों पर पसरा सन्नाटा

नहीं बन रहे मिट्टी के घड़े

सुभाष कुमार ने बताया कि इस साल मिट्टी के घड़े नहीं बन पाए हैं, जो बने हैं वो बिक नही रहे हैं. खासियत ये है कि कॉलोनी में मिट्टी के सामान गेंहू के दाने जैसी साइज से लेकर 20 फीट तक ऊंचे मिल जाते हैं. उत्तम नगर विधानसभा के अंतर्गत आने वाली प्रजपाती कॉलोनी के मिट्टी के बर्तनों और अन्य वस्तुओं की मांग विदेशों तक है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें

  • Aajtak Android App
  • Aajtak Android IOS



Source link

Related posts

Leave a Comment