विकास दुबे का एनकाउंटर से पहले सुरक्षा के लिए SC में लगाई गई थी याचिका – When vikas dubey encounter story breaks plea filed before sc asks for protection to vikas dubey

41


  • विकास के सहयोगियों के फेक एनकाउंटर का लगा था आरोप
  • विकास दुबे की जान बचाने के लिए मांगी थी सुरक्षा

जिस दिन विकास दुबे का एनकाउंटर हुआ, उसी दिन सुप्रीम कोर्ट में उसकी सुरक्षा को लेकर याचिका दाखिल की गई थी. याचिका में आरोप लगाते हुए कहा गया था कि विकास के सभी सहयोगियों को फेक एनकाउंटर में मारा गया है. इसलिए विकास दुबे को सुरक्षा दी जाए.

यह याचिक मुंबई के वकील ने दायर की थी. कोर्ट से विकास दुबे के घर, शॉपिंग मॉल गिराने और महंगी गाड़ियों को तोड़ने के संबंध में एफआईआर दर्ज कराने के लिए आदेश दिए जाने की भी मांग की गई थी. इसके साथ ही विकास दुबे मामले की सीबीआई से जांच कराने की मांग भी की गई थी.

वकील ने कोर्ट से मांग की थी कि यूपी सरकार और पुलिस, गैंगस्टर विकास दुबे की जान की रक्षा करने की जिम्मेदारी ले और यह सुनिश्चित करे कि उसका एनकाउंटर या हत्या ना हो. कानून के मुताबिक ही सारी कार्रवाई की जाए. हालांकि कुख्यात अपराधी एवं कानपुर के बिकरू गांव में आठ पुलिसकर्मियों की हत्या के मामले का मुख्य आरोपी विकास दुबे शुक्रवार सुबह कानपुर के भौती इलाके में पुलिस मुठभेड़ मे मारा गया.

कानपुर के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक दिनेश कुमार ने बताया, ‘तेज बारिश हो रही थी. पुलिस ने गाड़ी तेज भगाने की कोशिश की जिससे वह डिवाइडर से टकराकर पलट गयी और उसमें बैठे पुलिसकर्मी घायल हो गये. उसी मौके का फायदा उठाकर दुबे ने पुलिस के एक जवान की पिस्तौल छीनकर भागने की कोशिश की और कुछ दूर भाग भी गया.’

Vikas Dubey encounter: यूपी एसटीएफ ने कानपुर में किया ढेर

कुमार ने कहा, ‘तभी पीछे से एस्कार्ट कर रहे एसटीएफ के जवानों ने उसे गिरफ्तार करने की कोशिश की और उसी दौरान उसने एसटीएफ पर गोली चला दी जिसके जवाब में जवानों ने भी गोली चलाई और वह घायल होकर गिर पड़ा. हमारे जवान उसे अस्पताल लेकर गये जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया.’

इससे पहले कानपुर के एडीजी जे एन सिंह ने बताया था कि पुलिस और एसटीएफ की गाड़ियां विकास को उज्जैन से लेकर आ रही थी, तभी अचानक एक गाड़ी दुर्घटनाग्रस्त हो गई. उसमें बैठे विकास दुबे ने भागने की कोशिश की जिसके बाद पुलिस मुठभेड़ हुई और वह घायल हो गया.

सिंह ने बताया कि हादसे के बाद दुबे ने एक एसटीएफकर्मी की पिस्तौल छीन ली और भागने का प्रयास किया लेकिन पुलिस ने उसे घेर लिया और दोनों तरफ से हुई गोलीबारी में वह घायल हो गया.

बीच सड़क पर गाड़ी पलटी, हथियार छीनकर भागने की कोशिश कर रहा था विकास दुबे

उन्होंने बताया कि विकास को तुरंत अस्पताल ले जाया गया जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया. इस दुर्घटना में चार पुलिसकर्मी भी घायल हुए हैं. बता दें, विकास दुबे को गुरुवार को मध्य प्रदेश के उज्जैन से गिरफ्तार किया गया था.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें

  • Aajtak Android App
  • Aajtak Android IOS





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here