कानपुरः 8 पुलिसकर्मी हुए थे शहीद, 7 दिन में 6 बदमाशों को ढेर कर चुकी है यूपी पुलिस – Vikas dubey encounter up police stf how many gangster killed yogi government

26

कानपुर में आठ पुलिसकर्मियों की हत्या के मास्टरमाइंड विकास दुबे को मार गिराया गया है. पुलिस के मुताबिक, विकास दुबे पुलिसवालों का हथियार छीनकर भागने की कोशिश कर रहा था. इस दौरान मुठभेड़ हुई और विकास दुबे मारा गया है. विकास दुबे से पहले उसके 5 गुर्गे ढेर किया जा चुके हैं.

2 जुलाई की रात विकास दुबे ने अपने गुर्गों के साथ मिलकर दबिश देने पहुंची पुलिस टीम पर हमला किया था. इस हमले में क्षेत्राधिकारी देवेंद्र मिश्रा समेत आठ पुलिसकर्मी शहीद हो गए थे. इस घटना के बाद विकास दुबे अपने गुर्गों के साथ फरार हो गया था. इसके बाद से ही पुलिस को विकास दुबे और उसके गुर्गों की तलाश थी.

पुलिसकर्मियों की हत्या के तुरंत बाद कानपुर पुलिस ने बिकारू गांव के आस-पास के जंगलों में सर्च ऑपरेशन चलाया था. इस दौरान पुलिस और विकास दुबे के गुर्गों के बीच मुठभेड़ हुई थी, जिसमें विकास दुबे के मामा प्रेम प्रकाश पांडेय और साथी अतुल दुबे को मार गिराया था. इस मुठभेड़ में तीन पुलिसकर्मी भी घायल हुए थे.

विकास दुबे के दो गुर्गों को ढेर किए जाने के बाद विकास दुबे और उसके बाकी साथियों की तलाश तेज हो गई थी. 8 जुलाई की तड़के हमीरपुर में पुलिस ने विकास दुबे के दाहिने हाथ अमर दुबे को मार गिराया गया था. इस मुठभेड़ में मौदहा इंस्पेक्टर मनोज शुक्ला व एसटीएफ सिपाही घायल हुए है थे. उसके पास से ऑटोमेटिक हथियार बरामद किया गया था.

इसके अगले ही दिन यानी 9 जुलाई को पुलिस ने विकास दुबे के दो साथियों प्रभात मिश्रा और बउआ दुबे को पुलिस ने मार गिराया गया था. फरीदाबाद में गिरफ्तार प्रभात मिश्रा को ट्रांजिट रिमांड पर लेकर कानपुर लाया जा रहा था. तभी बीच रास्ते में प्रभात ने पुलिस की पिस्टल छीनकर भागने की कोशिश की. इस दौरान मुठभेड़ में प्रभात मिश्रा मारा गया.

इसी दिन इटावा पुलिस ने विकास दुबे के एक और करीबी प्रवीण उर्फ बउआ दुबे को ढेर कर दिया. पुलिस की माने तो बउआ ने देर रात महेवा के पास हाईवे पर स्विफ्ट डिजायर कार को लूटा था. उसके साथ तीन और बदमाश थे. पुलिस को लूट की जैसे ही खबर मिली चारों को सिविल लाइन थाने के काचुरा रोड पर घेर लिया. एनकाउंटर में बउआ मारा गया.

9 जुलाई को ही उज्जैन के महाकाल मंदिर के बाहर से विकास दुबे को पकड़ लिया गया. उसे कानपुर पुलिस और एसटीएफ की टीम कानपुर ला रही थी, तभी गाड़ी पलट गई और विकास दुबे हथियार छीनकर भागने लगा. पुलिस की जवाबी कार्रवाई में विकास दुबे भी मारा गया है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें

  • Aajtak Android App
  • Aajtak Android IOS



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here